युवा दिवस के उपलक्ष में सामान्य शिविर का हुआ आयोजन

0

 

चिरगांव झांसी- आज राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त महाविद्यालय चिरगांव में युवा दिवस के उपलक्ष में सामान्य शिविर का आयोजन किया गया है। राष्ट्रीय युवा दिवस पर निबंध लेखन पुस्तक वाचन एवं स्वामी जी पर भाषण एवं विचार प्रस्तुत किए गए । जिसकी अध्यक्षता करते हुए प्राचार्य डॉ. सुनील भटनागर ने कहा कि हर वर्ष 12 जनवरी को भारत में पूरे उत्साह और खुशी के साथ राष्ट्रीय युवा दिवस या “स्वामी विवेकानंद जन्म दिवस” के रूप में मनाया जाता है। राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई दो के कार्यक्रम अधिकारी डॉ. संजय गौतम ने कहा कि आधुनिक भारत के निर्माता राष्ट्रीय युवा दिवस के रुप में स्वामी विवेकानंद के जन्म दिवस को मनाने के लिये वर्ष 1984 में भारत सरकार द्वारा इसे पहली बार घोषित किया गया था। उपरांत इतिहास विभाग के प्रवक्ता डॉ. अशोक मुस्तरिया ने राष्ट्रीय युवा दिवस के इतिहास पर कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ के द्वारा वर्ष 1985 ई. को अन्तरराष्ट्रीय युवा वर्ष घोषित किया गया था| इसके महत्त्व का विचार करते हुए भारत सरकार ने घोषणा की कि सन् 1985 से 12 जनवरी यानी स्वामी विवेकानन्द जयन्ती का दिन राष्ट्रीय युवा दिन के रूप में देशभर में सर्वत्र मनाया जाए| डॉ. अशोक मुस्तरिया ने स्वामी विवेकानंद का दर्शन और उनके आदर्श पर बताया कि देश के सभी युवाओं को प्रेरित करने के लिये भारत सरकार द्वारा ये फैसला किया गया था । स्वामी विवेकानंद जी का महत्वपूर्ण वाक्य था “उठो, जागों और जब तक मत रुकों तब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हों” । इसके उपरांत कार्यक्रम अधिकारी एक श्री आनंद कटारे ने स्वामी विवेकानंद के विचारों और जीवन शैली पर कहां के युवाओं को प्रोत्साहित करने के द्वारा देश के भविष्य को बेहतर बनाने के लक्ष्य को पूरा करने के लिये राष्ट्रीय युवा दिवस के रुप में स्वामी विवेकानंद के जन्म दिवस को मनाने का फैसला किया गया था| इसे मनाने का मुख्य लक्ष्य भारत के युवाओं के बीच स्वामी विवेकानंद के आदर्शों और विचारों के महत्व को फैलाना है। उपस्थित अन्य सम्मानित प्रवक्ता गणों में इंद्र वेश आर्य नंदकिशोर हरीश कुशवाहा, मनोज यादव रश्मि पटेल अंशिका त्रिवेदी सबिया खान रागनी श्रीवास्तव संजीव वीरेंद्र एवं अन्य कर्मचारी गण उपस्थित रहे अंत में आभार प्रवक्ता आकाश कुमार द्वारा व्यक्त किया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.