Leaderboard Ad

पीड़ित व्यक्ति ने लगाया ग्राम प्रधान पर कालोनी बेचने का आरोप

0

पीड़ित व्यक्ति ने लगाया ग्राम प्रधान पर कालोनी बेचने का आरोप

आरोप लगाना पड़ा महंगा पीड़ित को मिली जान से मार देने की धमकी

उन्नाव-पाटन विकास खण्ड सुमेरपुर के अंतर्गत ग्रामसभा नैकामऊ के मजरा लाला खेड़ा गाँव के ग्राम प्रधान डॉ हरी संकर यादव डाल रहे गरीब जनता के हक पर डाका। और स्वच्छ भारत मिशन की उड़ा रहे है धज्जियां। आवास और शौचालय से आज भी वंचित हैं यहां के ग्रामीण।
बीघापुर तहसील के अंतर्गत आने वाले कई गांव के ग्रामप्रधानों की बारी बारी से खुलती नज़र आ रही है पोल। सुमेरपुर ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा नैकामऊ में वीरेंद्र पुत्र उमा संकर ने ग्राम प्रधान हरीसंकर पर लगाया कॉलोनी बेचने का आरोप। पीड़ित वीरेंद्र ने ग्राम प्रधान पर आरोप लगाते हुए बताया कि सन 2016-2017 में मेरे नाम से प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मेरे कॉलोनी आयी थी। जिसे ग्राम प्रधान ने पैसे के लालच में किसी दूसरे वीरेंद्र नाम के व्यक्ति के हाथ बेच डाली। और जब पीड़ित को इस बात की जानकारी हुई तो पीड़ित ने ब्लॉक से आर टी आई निकलवाई। जिसमे पीड़ित के नाम से कॉलोनी का पैसा पास हो चुका था। इस बात को लेके जब पीड़ित ग्राम प्रधान से जानकारी करने पहुँचा तो ग्राम प्रधान ने बताया कि ये फ़र्ज़ी कागज़ है और तुम्हारी कालोनी नही आई।ये बात सुनकर पीड़ित के पैरों तले से जमीन खिसक गई। क्योंकि पीड़ित के तीन बेटी व दो बच्चे है। वीरेंद्र अपने परिवार का इकलौता कमाने वाला है। और अपने परिवार के साथ टूटी फूटी झोपड़ी में रह कर किसी तरीक़े मेहनत मजदूरी कर के अपने परिवार का का जीवन यापन कर रहा है। अब वीरेंद्र के सामने जटिल समस्या है कि वो बच्चों का पालन पोषण करे या रहने को मकान बनवाए। पीड़ित वीरेंद्र कागज़ के टुकड़े लिए दर दर भटक रहा है । लेकिन अभी तक न्याय नही मिला। अगर कोई पीड़ित के मदद के लिए आगे आता है तो ग्रामप्रधान हरिसंकर यादव व उनके चमचों के द्वारा मदद लिए आये व्यक्ति व पीड़ित दोनो को डराया धमकाया जाता है। और तो और जान से मार देने की धमकी भी दी जाती है। इन सब बातों से साफ जाहिर है कि ग्राम प्रधान की दबंगई चरम पर है। और ग्राम प्रधान द्वारा प्रधानमंत्री के सपनों को तार – तार किया जा रहा है। जब मीडिया की टीम ने गांव का सर्वे किया तो लाला खेड़ा ग्राम में कई ग्रामीण शौचालय और आवास जैसी योजनाओं से वंचित हैं । जहां प्रधानमंत्री जी डिजिटल इण्डिया एवं स्वच्छ भारत मिशन का दम भरते नजर आते हैं। वहीं उन्नाव जिले से उनके दावों की हवा निकलती नजर आ रही है । ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम प्रधान से कई बार आवास, शौचालय के लिए कहा गया लेकिन प्रधान दबंगई के चलते किसी की कोई सुनवाई नहीं की और सचिव से मिलीभगत कर ग्रामीणों को हर योजनाओं से वंचित कर दिया। वहीं ग्रामीणों ने यह भी कहा कि कई बार ग्राम प्रधान से सड़क निर्माण और नालियों के संबंध में शिकायत की गई लेकिन प्रधान ने आज तक कोई सुनवाई नहीं की ।

बीघापुर से प्रशांत त्रिवेदी की रिपोर्ट

Spread the love
Share.

Leave A Reply