भोजपुर के विवेक शर्मा कर रहे जैविक उत्पादों से खेती लोगों को कर रहे प्रेरित

अलीगढ़

ज़िला अलीगढ से लगभग 40 किमी दूर ब्लॉक चंडौस के गाँव भोजपुर में विवेक कुमार शर्मा खेती में हो रहे अत्यधिक रसायनों के प्रयोग से होने वाले शारीरिक दुष्परिणामों को देखते हुए अपनी जमीन पर लगभग 2 वर्ष से रसायनों का इस्तेमाल पूर्णतः बन्द कर जैविक खेती कर रहे है और पूर्णतः जैविक अनाज सब्जियाँ व् दालें उगाते है । और उसमें प्रयोग होने वाले सभी जैविक खाद उर्वरक और कीटनाशक भी अपने गुरु दया जैविक फार्म पर ही गौमूत्र और रास्ट्रीय जैविक खेती केंद्र गाज़ियाबाद के निदेशक श्री कृष्ण चंद्रा जी द्वारा निर्मित वेस्ट डीकॉम्पोजर के द्वारा ही बनाते है । जमीन की उर्वरा शक्ति बढ़ाने के लिए वह गाय के गोबर से शाक्तिशाली कंपोस्ट खाद और फसल के लिए आवश्यक पोषक तत्त्व एवं कीटो से फसल बचाव के लिए जैविक कीटनाशक के लिए खट्टी छाछ , नीम की पत्ती ,निबौली, भांग ,आँक, धतूरा, तंबाकू,करंज आदि का उपयोग किया जाता है ।भूमि में उर्वरा शक्ति तथा जीवाश्म कार्बन बढ़ाने के लिए फसल अवशिस्ट को जलाने की जगह उसको खेत में ही गलाने के लिए रास्ट्रीय जैविक खेती केंद्र गाज़ियावाद के निदेशक श्री कृष्ण चंद्रा जी व् जगत सिंह जी के द्वारा निर्मित कचरा अपघटक ( waste decompser) का इस्तेमाल किया जाता है इस प्रकार से की गई खेती से उत्पन्न अनाज दाल और सब्जियाँ पूर्णतः रसायन मुक्त जहरमुक्त होती है । प्राकृतिक पुराने स्वाद के साथ पोषकतत्वों से भरपूर के कारण शरीर की रोगप्रतिरिधक झमता को बढ़ाती है ।
स्वस्थ्य शरीर स्वस्थ जीवन का आधार

Crime24hours/उपवेन्द्र राजपूत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *