Leaderboard Ad

किशनपुर घाट में बना पीपे का पुल टेम्परेरी,हो सकती है किसी दिन बड़ी दुर्घटना

0

फतेहपुर खागा
अस्थाई पीपे का पुल भी नही है सुरक्षित,
किशनपुर घाट से बाँदा जनपद को जोड़ने वाला पक्का पुल निर्माण कार्य कछुए की चाल से चल रहा है।वही अस्थाई पीपे का पुल इस वर्ष देर में बना वो भी ऐसे है किजिसमे अगल बगल कोई भी सपोर्ट नही है।जब कोई छोटी चार पहिया गाड़ी गुजरती है तो पीपे पानी मे दबते है।पैदल निकलने वाले लोग जब किनारे खड़े होते है तो उनको अगल बगल पकड़ने के लिए सपोर्ट भी नही बनाया गया।न ही पुल की लकड़ियों के ऊपर लोहे की चादर डाली गई है।इससे पहले भी केवल फर्ज अदायगी ही होती थी,आज भी वही हो रहा है।लोगो को आने जाने में कष्ट होता है तो भी कोई फर्क नही पड़ता साशन प्रशासन भी अनदेखा कर रहे है।
लोग तो यह कह रहे है कि इस घाट से इस वर्ष मोरम खदान का कार्य नही हो रहा इस लिए इस पुल को ठेकेदार ने गंभीरता से नही लिया ,केवल खानापूर्ति की गई है।जो पुल जनवरी फरवरी से बन के चलने लगता था वही आज अप्रैल माह में बना है।
जब कि तय समय सीमा 15 जून से फिर पुल को तोड़ दिया जाता है।माना जाए तो यह पुल केवल दो माह के लिए ही बनाया गया है। इस पुल में किसी दिन बड़ी दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।

Spread the love
Share.

About Author

Leave A Reply